Hmarivani

www.hamarivani.com

Hmarivani

www.hamarivani.com

बुधवार, 1 जुलाई 2015

क्या भारत में किसी भी प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित हैं ?

आज आप किसी भी न्यूज़ चैनल लगाईये आपको महिलाओं के साथ बढ़ते अपराध के समाचार जरुर मिलेगें। जहाँ हमारे यहाँ प्रत्येक पार्टी महिलाओं कि सुरक्षा पर राजनीती करती है रोज़ भाषण दिए जाते है नारी शक्ति कि परिभाषाएं बतायी जाती है,किन्तु हकीकत क्या है कोई भी आम नारी कही भी सुरक्षित नहीं है। वो चाहे किसी भी उम्र कि क्यों न हो।
  दिल्ली,मुम्बई,बंगलुरु भारत का कोई भी राज्य हो कोई भी शहर हो कहीं भी महिलये सुरक्षित नहीं हैं। आखिर क्यों ?बस ऑटो में चलना मुश्किल है ,ए टी ऍम से रूपये निकलना खतरे से खाली नहीं ,ट्रेन पर महिलाएं सुरक्षित नहीं है। आखिर कोई ये बताये की महिलाओं को क्या करना चाहिए ?क्योकि अब बहुत हो चूका अब और नहीं। महिलाएं घबड़ाती हैं घर से बाहर कदम रखने को। बात हम  इक्कसवीं सदी कि करतें है किन्तु मानसिकता अभी भी सोलहवीं सदी कि है। केवल कुछ महिलाओं के आगे निकलने से सभी महिलाओं को सुरक्षित नहीं समझा जा सकता। 
बेरोजगारी ,अशिक्षित लोग ,कानून को खौफ न होना,दरिंदगी ये ही कारण है जिसकी वजह से समाज असुरक्षित है। यही यदि कानून का डर हो तो कोई भी अपराध करने से पहले सोचेगा। आधुनिक समान सबको चाहिए लेकिन पैसा कहाँ से आए तो लोग नीच से नीचतम हरकत पर आ जाते हैं। लेकिन बात वहीँ आ कर अटकती है कि महिलाओं की सुरक्षा क्या है ?घर ,बस,ए टी ऍम कहाँ  और कैसे सुरक्षा कि जाये ?
            

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें