Hmarivani

www.hamarivani.com

Hmarivani

www.hamarivani.com

बुधवार, 1 जुलाई 2015

क्या भारत में किसी भी प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित हैं ?

आज आप किसी भी न्यूज़ चैनल लगाईये आपको महिलाओं के साथ बढ़ते अपराध के समाचार जरुर मिलेगें। जहाँ हमारे यहाँ प्रत्येक पार्टी महिलाओं कि सुरक्षा पर राजनीती करती है रोज़ भाषण दिए जाते है नारी शक्ति कि परिभाषाएं बतायी जाती है,किन्तु हकीकत क्या है कोई भी आम नारी कही भी सुरक्षित नहीं है। वो चाहे किसी भी उम्र कि क्यों न हो।
  दिल्ली,मुम्बई,बंगलुरु भारत का कोई भी राज्य हो कोई भी शहर हो कहीं भी महिलये सुरक्षित नहीं हैं। आखिर क्यों ?बस ऑटो में चलना मुश्किल है ,ए टी ऍम से रूपये निकलना खतरे से खाली नहीं ,ट्रेन पर महिलाएं सुरक्षित नहीं है। आखिर कोई ये बताये की महिलाओं को क्या करना चाहिए ?क्योकि अब बहुत हो चूका अब और नहीं। महिलाएं घबड़ाती हैं घर से बाहर कदम रखने को। बात हम  इक्कसवीं सदी कि करतें है किन्तु मानसिकता अभी भी सोलहवीं सदी कि है। केवल कुछ महिलाओं के आगे निकलने से सभी महिलाओं को सुरक्षित नहीं समझा जा सकता। 
बेरोजगारी ,अशिक्षित लोग ,कानून को खौफ न होना,दरिंदगी ये ही कारण है जिसकी वजह से समाज असुरक्षित है। यही यदि कानून का डर हो तो कोई भी अपराध करने से पहले सोचेगा। आधुनिक समान सबको चाहिए लेकिन पैसा कहाँ से आए तो लोग नीच से नीचतम हरकत पर आ जाते हैं। लेकिन बात वहीँ आ कर अटकती है कि महिलाओं की सुरक्षा क्या है ?घर ,बस,ए टी ऍम कहाँ  और कैसे सुरक्षा कि जाये ?
            

शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2013

कुम्भ मेला और साधु संत

बारह वर्ष पश्चात प्रयाग का कुम्भ मेला एक बार फिर पुरे जोर शोर पर चल रहा है।मुझे तो प्रयाग छोड़े बहुत  दिन हो गया किन्तु आज भी बचपन की यादे बनी है।नित्य टी वी में दिखाया जाता है कुम्भ मेले  के बारे में एवं वहाँ आये साधू संतों के बारे में।
                              
                                     मैं  बचपन से आज तक यही विचार करती रही की ये सब योगी है या फिर भोगी और ढोगी?क्योंकि आप इनका आशियाना तो देखें किस चीज़ की कमी है?लोग कहते है की भारतीय अन्धविश्वासी होते हैं और इन साधुओं के मायाजाल में फंसते है।किन्तु अब आप देखिये इन साधुओं के जमावड़े में कितने विदेशी हैं।क्या ये अन्धविश्वासी नहीं हैं? लोग कहते हैं संतों की अवहेलना हम सब करते हैं किन्तु ये सत्य नहीं है।हम सभी उन संतों का आदर सम्मान आज भी करते  हैं जो धर्म सिखाते हैं।आज भी आस्था है धर्म में भी और शंकराचार्य  संत में भी।
                                 
    किन्तु अफ़सोस केवल ढोंगी साधू के लिए है।जो धूनी रमाये चिलम पीते नजर आते हैं।मेरे विचार से संत वही  हैं जो दुसरे का सोचे न कि अपने सुख सुविधा का,संत वहीँ हैं जो प्रत्येक धर्म को एक समान माने  न कि कोई एक धर्मको,क्योकि ईश्वर तो सर्वव्यापी है।सब धर्म में हैं।मैं  ऐसे ही संत को बार बार नमन करना चाहूंगी जो सत्य प्रिय हो,कटु  वचन न बोले,और मुखमंडल हमेशा कमल की भांति खिला  हो।
                   
                      ख़ैर इसका तो अंत नहीं है आज भी कुम्भ की आस्था है,एक पृथक नगर बन जाता है,कुम्भ मेले का नजारा  तो कभी भी नहीं भूलता।हमें स्वयं जागृत होना है एवम सही और गलत का फैसला स्वयम लेना है।बाकि कुम्भ मेला  में भी आस्था है, धर्म में भी पूर्ण विश्वास है।किन्तु भ्रष्ट साधुओं के लिए कोई  स्थान नहीं हैं। 

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2013

भार्तिहारी शतक

                                          नीति शतक

1. बुद्धिमान जन ईर्ष्या से ग्रस्त हैं, अधिकारी जन घमंड में चूर हैं, अन्य लोग अज्ञान से पीड़ित हैं,ऐसी दशा में समझदारी की बातें और ज्ञान सूक्तियाँ किनसे कहें?तभी तो उत्तम विचार  मन में ही गल सड़ जाते हैं।

2. अबोध को आसानी से समझाया जा सकता है,ज्ञानी को इशारा ही काफी है।अंशमात्र ज्ञान से ही जो स्वयम को परम ज्ञानी मान  बैठा है उस मनुष्य  को ब्रह्मा भी संतुष्ट नहीं कर सकता।

3. जब में थोडा समझदार हुआ तो हाथी की तरह घमंड में चूर रहने लगा।तब मेरा मन भ्रम से लिप्त हो गया की में तो सर्वज्ञ हूँ।जब बुद्धिमानों की संगती से थोड़ा -थोड़ा जानने के योग्य हुआ तब समझ आया की में निपट मूर्ख हूँ,और मेरा दर्प ज्वर के समान उतर गया।

4.आग को पानी से रोक जा सकता है,सूर्य की धूप  को छाते से ,मदमस्त हाथी को तीखे अंकुश से, रोग को औषधालय या औषध-संग्रह से और विष को भांति भांति के उपायों से रोका जा सकता है,शास्त्रों में वर्णित सभी रोगों का इलाज है परन्तु मूर्खों की कोई दावा नहीं है।