Hmarivani

www.hamarivani.com

Hmarivani

www.hamarivani.com

रविवार, 27 दिसंबर 2009

ज्ञानयोग



१) जिन व्यक्तियों का ह्रदय पवित्र है , वो धन्य हैं , क्योंकि उन्हें ईश्वर के द्वारा ज्ञान प्राप्त हुआ  है |
२) जिस प्रकार उगता हुआ सूर्य रात्रि के अंधकार का विनाश कर देता है , वैसे ही आत्मा का ज्ञान समस्त भ्रमों को दूर हटा देता है |
३) मानव जन्म धन्य है ; स्वर्ग के निवासी भी इस जन्म की कामना करते हैं ; क्योंकि मनुष्य के द्वारा ही वास्तविक ज्ञान और विशुद्ध प्रेम की प्राप्ति के जा सकती है |
४) पृथ्वी या स्वर्ग में जीवन लाभ की कोशिश न करें | जीवन के प्रति तृष्णा माया है | जीवन को  क्षणस्थायी जानते हुए अज्ञान के इस स्वप्न से जाग उठो , मृत्यु का ग्रास बनने से पूर्व ज्ञान और मुक्ति पाने का प्रयास करो | 
५) मान रहितता,दंभ हीनता, अहिंसा, क्षमाभाव, मन-वाणी की सरलता, सरधा-भक्ति पूर्वक गुरु की सेवा, शुद्धता, और मन एवम इन्द्रियों सहित शरीर का निग्रह -इन सब को ज्ञान कहा जाता है |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें